Vivekanada Kendra

Vivekanada Kendra

vk

...

Vivekananda Vani

That love which is perfectly unselfish, is the only love, and that is of God.  -Swami Vivekananda                                                                                                                                                            Slave wants power to make slaves.  -Swami Vivekananda                                                                                                                                                            The goal of mankind is knowledge.  -Swami Vivekananda                                                                                                                                                            In the well-being of one's own nation is one 's own well-being.  -Swami Vivekananda                                                                                                                                                            If a Hindu is not spiritual, I do not call him a Hindu.  -Swami Vivekananda                                                                                                                                                            Truth alone gives strength........ Strength is the medicine for the world's disease.  -Swami Vivekananda                                                                                                                                                           

Saturday, 12 May 2018

दिनांक 12 मई 2018 को अन्तरराष्टीय नर्स दिवस मनाया गया

विवेकानन्द केन्द्र बीओआरएल चिकित्सालय, बीना
इन्टरनेशनल नर्सिंग डे सेलीबे्रशन प्रतिवेदन

संवेदना और सेवा की प्रतिमूर्ति होती है नर्सःडाॅ. कयाल

विवेकानन्द केन्द्र बीओआरएल चिकित्सालय में संकल्प के साथ मना इन्टरनेशनल नर्सेस डे
     बीना। विवेकानन्द केन्द्र बीओआरएल चिकित्सालय में दिनांक 12 मई 2018 को अन्तरराष्टीय नर्स दिवस मनाया गया। इस अवसर पर विवेकानन्द केन्द्र बीओआरएल चिकित्सालय के चिकित्सा अधीक्षक डाॅ. राजकुमार कयाल ने सभी स्टाफ नर्सेस को संबोधित करते हुए कहा कि जिस प्रकार इतिहास में त्यागमूर्ति पन्ना धाय ने अपने राज्य के राजकुमार उदय सिंह के प्राण बचाने के लिए अपने पुत्र का बलिदान दिया यह इतिहास में सेवा के एक अनुपम उदाहरण है। यह विधा मिडवायफरी की विधा है जिसके तहत ही पन्ना धाय धाय मां का काम किया करती थी। आज हम नर्सिंग प्रोफेशन जो जिस सुगठित रूप में देखते है, वह रूप ब्रिटिश सेना में रहीं नर्स सुश्री फ्लोरेंस नाइटएंजिल के कारण है। वे अपने सेवा काल में भारत भी आई थी। आज बडी संख्या में स्टाफ नर्स की देश को जरूरत है, उस अनुपात में कम ही लोग नर्सिंग में अपना करियर बना रहे है। आज भी क्वालिटी केयर जी जरूरत महसूस की जा रही है।

      कार्यक्रम में चिकित्सा अधीक्षक डाॅ. कयाल ने आगे कहा कि आज आधुनिक युग में नए नए गैजेट्स आ रहे है, जिनका उपयोग करना हमें आना चाहिए। वहीं हमें त्रुटिरहित रिकाॅर्ड कीपिंग पर ध्यान देना होगा। मेडिको लीगल डाॅक्युमेंट को सहेजकर रखने की विधा भी हमें बेहतरीन ढंग से आनी चाहिए। अपनी विधा को बेहतर बनाने के लिए हमें समय समय पर अपने ज्ञान को सीएमई और काॅन्फेस के माध्यम से अपडेट करते रहना चाहिए। हमें मरीजों की रूटीन केयर पर भी पूरा ध्यान दें। हमारा लक्ष्य हो कि हम मरीजों को एरर फ्री सर्विस दे सकें।
     कार्यक्रम में वरिष्ठ चिकित्साधिकारी डाॅ. राजदीप नंद ने कहा कि हमें नर्सिंग के कोड आॅफ कन्डक्ट का पूरी तरह से पालन करना चाहिए वही गरीब और असहाय मरीजों की सेवा पूरे मनोयोग से करनी चाहिए। हमारा लक्ष्य हो कि हम भेदभाव रहित सेवा सभी को दे पाएं। कार्यक्र में सभी नर्सिंग स्टाफ के सभी सदस्यों ने कैंण्डल लेकर संकल्प लिया। कार्यक्रम में नर्सिंग इंचार्ज श्रीमती रजनी मैसी, स्टोर इंचार्ज श्री धन्नालाल प्रजापति तथा मेल स्टाफ नर्स श्री कमल रैयकवार ने भी नर्सिंग डे का महत्व सबके समक्ष रखा। कार्यक्रम के अंत में आभार प्रदर्शन सिस्टर इंचार्ज श्रीमती रजनी मैसी ने किया तथा कार्यक्रम का संचालन मेल स्टाफ नर्स श्री पवन वर्मा ने किया। इस अवसर पर वरिष्ठ चिकित्सा अधिकारी डाॅ. दीपाली कयाल, चिकित्सालय के प्रशासनिक अधिकारी श्री गिरीश कुमार पाल, कार्यालय अधीक्षक श्री राहुल उदैनिया, सीआरएस इंचार्ज श्रीमती सुनीता पाण्डे, लैब तकनीशियन श्रीमती योगिता पटेल, श्री अभिषेक भदौरिया, श्री मनीष प्रजापति, रेडियोग्राफर श्री संजय नरवरिया, श्री अभय श्रीवास्तव, नेत्र तकनीशियन श्री सूबेदार विश्वकर्मा सहित सभी नर्सिंग स्टाफ सदस्य उपस्थित रहा। कार्यक्रम का समापन शांति पाठ से किया गया।
प्रतिवेदक
गिरीश कुमार पाल,
चिकित्सालय प्रशासनिक अधिकारी,
विवेकानन्द केन्द्र बीओआरएल चिकित्सालय,बीना

No comments:

Post a comment